Thursday, November 26, 2020
Home Blog

Samsung Odyssey G7, G9 1000R curved gaming monitors launched in India: Details here

0
Maradoa
By: Tech Desk | New Delhi |

November 26, 2020 1:49:17 pm

Samsung, Samsung Odyssey, Samsung Odyssey G9, Samsung Odyssey G7, Samsung Odyssey G9 launched in India, Samsung Odyssey G9 price in India, Samsung Odyssey G7 launched in India, Samsung Odyssey G7 price in IndiaThe Odyssey G9 sports a Dual Quad High-Definition resolution (5120×1440 pixels) with an aspect ratio of 32:9 and a peak brightness of 1000 cd/m2. (Image: Samsung)

Samsung has finally launched its Odyssey G9 and G7 gaming monitors in India. Both of these were initially unveiled back at CES 2020, earlier this year. The Odyssey G7 will be made available with a 27-inch and a 32-inch display variant, with the Odyssey G9 being made available only in a 49-inch variant. Both of the monitors are currently available for pre-ordering until December 31, with special gift offers. The monitors will have a price range starting at Rs 49,000 for the 27-inch G7 and will go up to Rs 1,99,000 for the 49-inch G9.

Both the Odyssey G7, G9 are the world’s first gaming monitors to come with a curvature radius of 1,000 millimetres. With this, the company states that users can have maximum immersion and minimal eye strain, as the curve of the display matches that of the human eye. TÜV Rheinland has awarded these monitors the industry’s first high performance 1000R curved display and Eye Comfort certificate.

The monitors support Nvidia G-SYNC and Adaptive Sync on DP1.4. It has a response time of 1ms and a refresh rate of 240Hz. The company also states that the Odyssey monitors are the world’s first Dual Quad High-Definition (DQHD) monitors that provide users with crystal clear QLED picture quality.

The Odyssey G9 sports a Dual Quad High-Definition resolution (5120×1440 pixels) with an aspect ratio of 32:9 and a peak brightness of 1000 cd/m2. It features Quantum dot technology combined with an HDR1000 VA panel, due to which the company claims that it can “produce lifelike colours in vivid detail.”

The G9 features a glossy white exterior with a futuristic infinity core lighting glowing rear core that can light up in 52 colours and has five lighting effect options. Whereas, the G7 has a matte black exterior and colour-changing rear core lighting. It also has dynamic shapes and lighting to the monitor’s front bezel.

Odyssey G7 sports a Quad-High Definition resolution (2560×1440 pixels) with a 16:9 aspect ratio and HDR600 VA panel. The company claims that the monitor has a wide range of accurate colour reproduction, which stays crisp and clear even in bright light.

“The new Odyssey portfolio proves that Samsung is continuing to drive innovation with industry-leading technology and design that allow gamers significantly better performances. Samsung Odyssey curved monitors are the ultimate combination of curvature, comfort and competitive edge, and this launch will further solidify our presence in the gaming monitor market,” said Puneet Sethi, Vice President, Consumer Electronics Enterprise Business, Samsung India.

Express Tech is now on Telegram. Click here to join our channel (@expresstechie) and stay updated with the latest tech news.

📣 The Indian Express is now on Telegram. Click here to join our channel (@indianexpress) and stay updated with the latest headlines

For all the latest Technology News, download Indian Express App.

© IE Online Media Services Pvt Ltd

इन 10 चीजों में इस्तेमाल कर सकते हैं एल्युमिनियम फॉयल,शायद नहीं जानते होंगे आप

0
Aluminum Foil

एल्युमिनियम फॉयल (Aluminium Foil) का इस्तेमाल हममें से ज्यादातर लोग खाना को गर्म रखने के लिए करते हैं. अक्सर होटल (Hotel) या रेस्टोरेंट (Restaurent) वाले एल्युमिनियम फॉयल (Uses of Aluminium Foil) में ही रोटी को पैक करते हैं, ताकि वह ज्यादा देर तक गर्म रहे. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका इस्तेमाल खाना पैकिंग (Food Packaging) के अलावा घर के कई अन्य कामों में भी किया जा सकता है? शायद आप नहीं जानते होंगे. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि एल्युमिनियम फॉयल का इस्तेमाल किन 10 चीजों में कर सकते हैं?

IIT बॉम्बे का दावा: कोरोना लिक्विड लेयर की सतह पर कई दिनों तक जिंदा रहता है, मास्क लगाएं, दूरी बनाएं और हैंडवॉश करते रहें

0
  • Hindi News
  • Happylife
  • IIT Bombay Coronavirus Study; Novel Virus Survive On Surfaces By Clinging To Thin Liquid Films

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • सांस के जरिए निकले सामान्य ड्रॉप्लेट्स कुछ सेकंड्स में सूख जाते हैं
  • अलग-अलग सतहों पर मौजूद कोरोना कुछ घंटों तक जिंदा रहता है

कोरोना वायरस पतली लिक्विड लेयर से चिपककर सतह पर जीवित रहता है। यह दावा आईआईटी-बॉम्बे ने अपनी रिसर्च में किया है। रिसर्च के मुताबिक, यह घातक वायरस ठोस सतहों पर कई घंटे और कई दिन तक जिंदा रहता है। ‘फिजिक्स ऑफ फ्लूइड्स’ जर्नल में पब्लिश रिपोर्ट में बताया गया है कि ठोस सतहों पर कई दिन कई घंटे तक कैसे वायरस जीवित रहता है।

ऐसे समझें पूरी रिसर्च

  • वैज्ञानिकों का कहना है, आमतौर पर सांस के जरिए निकलने वाले सामान्य ड्रॉप्लेट्स कुछ सेकंड्स में सूख जाते हैं लेकिन किसी अलग-अलग सतहों पर मौजूद कोरोना कुछ घंटों तक जिंदा रहता है।
  • आईआईटी बॉम्बे के प्रोफेसर रजनीश भारद्वाज ने बताया, हमने रिसर्च नैनोमीटर वाली लिक्विड लेयर पर किया है। यह सतह पर खास तरह के फोर्स से चिपकती है, इसलिए कोरोना इस सतह पर घंटों जीवित रहता है।
  • प्रोफेसर अमित अग्रवाल कहते है, पतली पर्त वाला मॉडल बताता है कि किसी भी सतह पर पतली पर्त का मौजूद होना और इसका सूखना तय करता है कि इस पर वायरस कितनी देर तक रहेगा।

मामले घटें या बढ़ें, अभी कोरोना से बचाव हर हाल में जरूरी

दुनियाभर के डॉक्टर्स भी यही कह रहे हैं कि यदि हर व्यक्ति ठीक तरह से मास्क पहनने को लेकर जिम्मेदार बन जाए तो कोरोना को काफी हद तक रोका जा सकता है। यह काम बहुत मुश्किल भी नहीं है। आप 3 काम करके कोरोना की दूसरी लहर को रोक सकते हैं…

1. मास्क पहनिए

ग्लोबल रिसर्च में यह साबित हुआ है कि जहां 50% से 80% लोगों ने मास्क पहना, वहां कोरोना कंट्रोल में आ गया। जब हम बात करते हैं, तब हमारे मुंह से निकलने वाले ड्रॉपलेट्स डेढ़ से दो फीट तक जा सकते हैं। बिना मास्क तेजी से बात करेंगे तो ड्रॉपलेट्स की रेंज 6 फीट तक हो जाएगी। मास्क होगा, तो ये ड्रॉपलेट्स ढाई इंच से आगे नहीं जा सकेंगे। इससे संक्रमण का खतरा 90% तक घट जाएगा।

2. दूरी रखिए

कोरोनावायरस सांस और ड्रॉपलेट्स के जरिए 6 फीट तक फैल सकता है। अगर हम इतनी दूरी बनाकर रखेंगे तो खुद को संक्रमित होने से बचा लेंगे।

3. हाथों को साफ रखिए

कोरोना नाक और मुंह के जरिए शरीर में प्रवेश करता है। हाथों से हम बार-बार मुंह को छूते हैं। हाथ सैनिटाइज होंगे तो संक्रमण फैलने का खतरा कम होगा।

देश में बालिग लड़का-लड़की को शादी करने के लिए मिले हैं ये कुछ खास अधिकार, पढ़ें पूरी सूची

0

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला, Updated Thu, 26 Nov 2020 12:57 PM IST

वास्तव में हर व्यक्ति के जीवन में शादी की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। विज्ञान के अनुसार मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, जो पूरी जिंदगी अकेले गुजारने में सक्षम नहीं होता है। जिस तरह हमें जीने के लिए समाज की जरूरत होती है, उसी तरह पूरी जिंदगी गुजारने के लिए एक जीवनसाथी की जरूरत पड़ती है ताकि हम उसका साथ पाकर अपने जीवन में आने वाली हर बाधाओं और समस्याओं से लड़ सकें। भारत जैसे देश में शादी को एक पवित्र और अटूट गठबंधन की तरह देखा जाता है। कई बार लड़के और लड़की के बालिग होने के बावजूद शादी के बीच जातिगत या धर्म संबंधी विवाद भी देखने को मिलता है, जिससे दोनों की शादी नहीं हो पाती है या शादी के पहले और बाद में कई तरह की सामाजिक अड़चनों का सामना करना पड़ता है।

देश में एक बालिग लड़का-लड़की को शादी करने को लेकर कई अधिकार भी दिए गए हैं। आइए पढ़ते हैं आगे…

मुंबई हमले की 12वीं बरसी आज,  शहीद सुरक्षाकर्मियों को दी जाएगी श्रद्धांजलि 

0

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकवादी हमले की गुरुवार को 12वीं बरसी है। महानगर पुलिस शहीद सुरक्षाकर्मियों को श्रद्धांजलि देने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन करेगी जिसमें महामारी की वजह से सिर्फ सीमित संख्या में लोग शिरकत करेंगे।

इस संबंध में एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि कार्यक्रम दक्षिण मुंबई में पुलिस मुख्यालय में नवनिर्मित स्मारक स्थल पर होगा। इसमें शहीद सुरक्षाकर्मियों के परिजन शामिल होंगे।

उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गृह मंत्री अनिल देशमुख, पुलिस महानिदेशक सुबोध कुमार जयसवाल, मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

अधिकारी ने बताया कि तटीय सड़क परियोजना पर काम चलने की वजह से शहीद स्मारक को मरीन ड्राइव स्थित पुलिस जिमखाना से क्रॉफॉर्ड मार्केट स्थित पुलिस मुख्यालय में स्थानांतरित किया गया है।

गौरतलब है कि 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादी समुद्र के रास्ते यहां पहुंचे थे और गोलीबारी की थी जिसमें 18 सुरक्षाकर्मियों समेत 166 लोग मारे गए थे तथा कई लोग घायल हुए थे। इस दौरान एनएसजी और अन्य सुरक्षाबलों ने नौ आतंकवादियों को ढेर कर दिया था तथा अजमल आमिर कसाब नाम के आतंकवादी को जिंदा पकड़ लिया गया था जिसे 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गई।

हमले में जान गंवाने वालों में तत्कालीन एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे, सेना के मेजर संदीप उन्नीकृष्णन, मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अशोक काम्टे और वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय सालस्कर भी शामिल थे।

मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकवादी हमले की गुरुवार को 12वीं बरसी है। महानगर पुलिस शहीद सुरक्षाकर्मियों को श्रद्धांजलि देने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन करेगी जिसमें महामारी की वजह से सिर्फ सीमित संख्या में लोग शिरकत करेंगे।

इस संबंध में एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि कार्यक्रम दक्षिण मुंबई में पुलिस मुख्यालय में नवनिर्मित स्मारक स्थल पर होगा। इसमें शहीद सुरक्षाकर्मियों के परिजन शामिल होंगे।

उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गृह मंत्री अनिल देशमुख, पुलिस महानिदेशक सुबोध कुमार जयसवाल, मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

अधिकारी ने बताया कि तटीय सड़क परियोजना पर काम चलने की वजह से शहीद स्मारक को मरीन ड्राइव स्थित पुलिस जिमखाना से क्रॉफॉर्ड मार्केट स्थित पुलिस मुख्यालय में स्थानांतरित किया गया है।

गौरतलब है कि 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादी समुद्र के रास्ते यहां पहुंचे थे और गोलीबारी की थी जिसमें 18 सुरक्षाकर्मियों समेत 166 लोग मारे गए थे तथा कई लोग घायल हुए थे। इस दौरान एनएसजी और अन्य सुरक्षाबलों ने नौ आतंकवादियों को ढेर कर दिया था तथा अजमल आमिर कसाब नाम के आतंकवादी को जिंदा पकड़ लिया गया था जिसे 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गई।

हमले में जान गंवाने वालों में तत्कालीन एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे, सेना के मेजर संदीप उन्नीकृष्णन, मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अशोक काम्टे और वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विजय सालस्कर भी शामिल थे।

मानसिक तनाव के कारण सिरदर्द की समस्या है तो करें इस फूल का सेवन, जरूर मिलेगा फायदा

0

लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली, Updated Thu, 26 Nov 2020 12:09 AM IST

शंखपुष्पी के बारे में बहुत कम ही लोग जानते होंगे। दरअसल, यह आयुर्वेद में बहुत महत्वपूर्ण जड़ी-बूटी है। इसके फूल से लेकर पत्ते और जड़ें सभी का इस्तेमाल औषधीय प्रयोजनों के लिए किया जाता है। इसका नाम शंखपुष्पी इसलिए पड़ा है, क्योंकि इसका फूल शंख के आकार का होता है। वैसे तो यह तीन रंग के पौधों में आता है- लाल, नीला और सफेद, लेकिन सफेद फूलों वाले शंखपुष्पी के पौधे को सबसे अच्छा माना जाता है। इसे स्मृति में सुधार और एकाग्रता बढ़ाने में मददगार माना जाता है। इसके अलावा भी शंखपुष्पी के कई फायदे हैं। आइए जानते हैं इसके सेवन से होने वाले फायदों के बारे में…

DGCA का निर्देश, 31 दिसंबर तक जारी रहेगा अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध

0

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 26 Nov 2020 12:01 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कोरोना वायरस महामारी के चलते नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने भारत में शेड्यूल अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानों की आवाजाही पर प्रतिबंध 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया है। लेकिन इस दौरान वंदे भारत मिशन के तहत जाने वाली उड़ानें जारी रहेंगी। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 30 नवंबर तक प्रतिबंध था। डीजीसीए के आदेश के अनुसार, केवल चयनित उड़ानों को ही संचालन की अनुमति होगी।

मालूम हो कि भारत ने कोरोना वायरस महामारी के कारण दो महीने के अंतराल के बाद 25 मई को घरेलू यात्री उड़ानों को फिर से शुरू किया गया था। इसके बाद विदेश में फंसे यात्रियों को वापस लाने के लिए वंदे भारत मिशन चलाया गया और कई देशों के साथ एयर बबल करार भी किया गया। भारतीय एयरलाइंस को पूर्व कोविड-19 घरेलू उड़ानों का अधिकतम 60 फीसदी संचालन करने की अनुमति है। 

हवाई यात्रा में 2024 तक बन पाएगी 2019 जैसी स्थिति
विमानन कंपनियों के वैश्विक संगठन अंतरराष्ट्रीय हवाई यातायात संघ (आईएटीए) के सीईओ एलेक्जेंडर डि जुनियाक ने कहा था कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते रेवेन्यू पैसेंजर किलोमीटर (राजस्व यात्री किलोमीटर) अपनी 2019 की स्थिति में साल 2024 तक लौट सकेगा। उन्होंने कहा कि अगर वायरस पर नियंत्रण पाने में या वैक्सीन विकसित करने में हम सफल नहीं हुए तो यह समय सीमा और आगे भी बढ़ सकती है। 

कोरोना वायरस महामारी के चलते नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने भारत में शेड्यूल अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानों की आवाजाही पर प्रतिबंध 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया है। लेकिन इस दौरान वंदे भारत मिशन के तहत जाने वाली उड़ानें जारी रहेंगी। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 30 नवंबर तक प्रतिबंध था। डीजीसीए के आदेश के अनुसार, केवल चयनित उड़ानों को ही संचालन की अनुमति होगी।

मालूम हो कि भारत ने कोरोना वायरस महामारी के कारण दो महीने के अंतराल के बाद 25 मई को घरेलू यात्री उड़ानों को फिर से शुरू किया गया था। इसके बाद विदेश में फंसे यात्रियों को वापस लाने के लिए वंदे भारत मिशन चलाया गया और कई देशों के साथ एयर बबल करार भी किया गया। भारतीय एयरलाइंस को पूर्व कोविड-19 घरेलू उड़ानों का अधिकतम 60 फीसदी संचालन करने की अनुमति है। 

हवाई यात्रा में 2024 तक बन पाएगी 2019 जैसी स्थिति

विमानन कंपनियों के वैश्विक संगठन अंतरराष्ट्रीय हवाई यातायात संघ (आईएटीए) के सीईओ एलेक्जेंडर डि जुनियाक ने कहा था कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते रेवेन्यू पैसेंजर किलोमीटर (राजस्व यात्री किलोमीटर) अपनी 2019 की स्थिति में साल 2024 तक लौट सकेगा। उन्होंने कहा कि अगर वायरस पर नियंत्रण पाने में या वैक्सीन विकसित करने में हम सफल नहीं हुए तो यह समय सीमा और आगे भी बढ़ सकती है। 

वेडिंग सीजन: शादी के लिए गोल्ड ज्वेलरी खरीद रही हैं तो ईयरिंग्स की ये 3 वैरायटी चुनें, इसे वेडिंग डे के अलावा हल्दी या संगीत के फंक्शन में भी पहन सकते हैं

0
  • Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • If You Are Buying Gold Jewelery For Wedding, Then Choose These 3 Varieties Of Earrings, In Addition To The Wedding Day, You Can Wear It In Turmeric Or Music Function.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • हर कलर की ड्रेस के साथ चांद बाली की गोल्डन वैरायटी खूब फबती है
  • ट्रेडिशनल लहंगे के साथ इस तरह के हेवी ईयररिंग्स अच्छे लगते हैं। दुल्हन को गिफ्ट देने के लिए भी यह विकल्प अच्छा है

शादी-ब्याह के अवसर पर खूबसूरत दिखने के लिए परफेक्ट ड्रेस का सिलेक्शन जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी सही ईयरिंग्स चुनना भी है। अगर आप अपनी शादी के लिए सोने की खरीदारी कर रही हैं तो ईयरिंग्स की इन तीन वैरायटी में से अपनी पसंद के अनुसार जो चाहे वो चुन सकती हैं। ये ईयरिंग्स रिसेप्शन के अलावा हल्दी या संगीत के फंक्शन में भी अच्छे लगते हैं।

1. हैंगिंग ईयरिंग्स
ट्रेडिशनल लहंगे के साथ इस तरह के हेवी ईयररिंग्स अच्छे लगते हैं। दुल्हन को गिफ्ट देने के लिए भी यह विकल्प काफी अच्छा है। दुल्हन के बीच सिल्वर और गोल्ड कॉम्बिनेशन से मिलकर बने स्पाइरल ईयरिंग्स भी चलन में हैं। इसकी हैंड क्राफ्टेड वैरायटी साल भर फैशन में इन रहती है।

2. झुमके
इस तरह के झुमके हर तरह के एथनिक वियर के साथ टीमअप कर पहन सकती हैं। इसमें मीनाकारी से लेकर जड़ाऊ झुमके भी दुल्हन को खूब अच्छे लगते हैं। आप चाहें तो अपनी ड्रेस के कलर से मैच करते हुए या मल्टीकलर झुमके खरीदें।

3. चादंबाली
हर कलर की ड्रेस के साथ चांदबाली की गोल्डन वैरायटी खूब फबती है। इन्हें रंग-बिरंगे स्टोन्स से और खूबसूरत बना सकते हैं। आप चाहें तो रेड या ग्रीन स्टोन्स वाली चांदबाली खरीदें और इसे गोल्डन नेकलेस के साथ टीमअप करके अपनी खूबसूरती बढ़ाएं।

In Trump and Biden, reality and fantasy collide on Thanksgiving

0
The solidarity that President-elect Joe Biden called for in a speech on Wednesday feels like a distant dream compared to the state of affairs in Washington, where Trump digs deeper into his bunker. The President is at once denying his election defeat and imploring loyalists to fight it. And the federal government and Congress are effectively AWOL, leaving millions of Americans to fend for themselves in the midst of a medical and economic catastrophe.

In this weird interregnum between Biden’s victory and Trump’s departure, the lame-duck President and the incoming one have taken remarkably, if unsurprisingly, different paths.

Trump is wrapped around the axle of his delusional bid to claw back a presidency that is receding from his grasp with each passing day. He lurches between grievance and pipe dreams, with no thought for the destruction in his path. Biden, operating in the world as it exists, has been scrupulously building a government-in-waiting. And in the two days since a Trump-appointee allowed the formal transition to begin, Biden’s team has begun to examine the rusted nuts and bolts of the beleaguered institutions he will inherit.

Biden’s reality and Trump’s fantasies collided on Thanksgiving eve.

First came news that weekly jobless claims had climbed to 778,000 — more than three times their pre-pandemic average. Trump, meanwhile, only called off plans to attend a charlatan circus billed as a voter fraud “hearing” by Pennsylvania Republicans in Gettsyburg after his attorney, Rudy Giuliani, was exposed — again — to someone who tested positive for the coronavirus. Giuliani turned up anyway and Trump called in, his ravings audible via a speakerphone pressed up to a microphone.
The President attacked the courts, which have almost unanimously dismissed his outlandish claims, Democrats, with still more plainly absurd lies, and called — on whom, it was hard to say — to overturn the election results. A few hours later, he issued a pardon to loyalist Michael Flynn, his briefly tenured national security adviser who pleaded guilty in 2017 to lying to the FBI about conversations with Russia’s then-ambassador.

Afterward, Trump invited the Pennsylvania Republicans to the White House for a West Wing meeting, two sources told CNN. It is a reprise of a gambit the President tried with two leading Michigan GOP state lawmakers, who visited Washington last week, for a debriefing the President hoped would yield more fuel for his baseless claims of election fraud. But he received none and the Republicans quickly released a statement afterward affirming the truth — that they had “not yet been made aware of any information that would change the outcome of the election in Michigan.”

Galaxies away

Biden urges Americans to recommit to fighting pandemic in Thanksgiving address
In Delaware, about 120 miles and several psychic galaxies away from the Gettsyburg mess, Biden issued a sober call for caution and resolve in the face of spiraling crises.

“I know the country’s grown weary of the fight. But we need to remember, we’re at war with the virus, not with one another. Not with each other,” Biden said. “This is the moment where we need to steel our spines, redouble our efforts and recommit ourselves to the fight.”

As he did during the campaign, Biden channeled his own grief — at the loss of his first wife and infant daughter in 1972, and his son’s death from brain cancer a little more than five years ago — in a bid to soothe mourning Americans.

“It’s really hard to care,” Biden said of the breathtaking sight of an “empty chair” where a loved one once sat. “It’s hard to give thanks. It’s hard to even think of looking forward, and it’s so hard to hope. I understand. I’ll be thinking and praying for each and every one of you at this Thanksgiving.”

Earlier in the day, future first lady Jill Biden was spotted dropping off bags of goods at a food bank in Rehoboth Beach, Delaware, where the Bidens are spending the holiday. The small gesture underscored the vast challenges facing so many, their lives financially devastated by the pandemic, who have turned to increasingly strained charitable organizations to temporarily satisfy basic needs.

And Vice President-elect Kamala Harris tweeted out a Time article chronicling the crisis, stating: “Food banks across our nation are struggling to keep up with the demand due to COVID-19. Know that when @JoeBiden and I are in the White House, we’ll fight food insecurity and address this crisis.”

“No one should go hungry in America,” she added.

A Washington Post survey of Census Bureau data from late October and early November found that food insecurity growing at a terrifying pace. One in 8 Americans said they had gone without enough to eat during the previous week, a figure that climbed to 1 in 6 in homes with children.

Kellie O’Connell, the CEO of Lakeview Pantry in Chicago, described the pained scenes as hard-hit families come for help, many for the first time.

Describing a family of four who had exhausted their savings, O’Connell spoke to CNN’s Brooke Baldwin about the feelings of shame that often accompany having to ask for help.

“They came to us to be able to put food on their table this Thanksgiving,” she said. “One of the parents stayed in the car because they were a little bit embarrassed about how they were getting food. And, so that’s really tough.”

The growing lines outside food banks have become a bitter hallmark of this wretched season.

Congress still stalled on relief package

Fate of the stimulus looks bleak as lawmakers turn attention to spending deadlineFate of the stimulus looks bleak as lawmakers turn attention to spending deadline

On the horizon: more pain. An estimated 12 million people will lose the expanded unemployment benefits provided by a federal relief package passed back in March. Prospects for a second round of federal stimulus in the near future seem bleak. There is a government funding deadline a few weeks away, which could provide an opportunity for lawmakers to budget some new aid. But a Democratic-backed House stimulus first passed in May, then updated at the beginning of October, is languishing.

Republican Senate Majority Leader Mitch McConnell refused to take it up and House Speaker Nancy Pelosi has so far refused to consider smaller, piecemeal legislation. The stalemate has left desperate American workers increasingly adrift and tossed entire industries to the brink.

The absence of a central, organizing figure in the White House has also begun to set off concerns about the processes in place for distributing coronavirus vaccines. In a mirror of the chaos this spring, when local leaders were left to bid against each other for ventilators and personal protective equipment, Illinois’ top state health officer said the federal government had already told her it couldn’t fulfill an initial request of 400,000 doses.

“We are still waiting to see answers, and understand maybe why that is, but it seems that the initial allotment we thought would be ready to go out — that number has decreased,” Dr. Ngozi Ezike told CNN’s Nia-Malika Henderson. “So as a result, all the states are going to get a smaller amount.”

Fighting the surge

'Tired of being sad.' The financial stress from Covid is taking an emotional toll'Tired of being sad.' The financial stress from Covid is taking an emotional toll

With Washington tied up in knots and the coronavirus spreading at record rates, one of the country’s most prominent health care providers, the Mayo Clinic, announced on it was bringing in staff from out of state and asking retirees to return to work fighting the virus surge in Minnesota.

As of 10 p.m. Wednesday, Johns Hopkins University had reported 178,752 new cases nationwide and 2,207 deaths. That followed the more than 2,100 Covid-19-related deaths on Tuesday, then the highest single-day number since May. Public health experts worry that the millions traveling on Thursday to spend time with family — indoors and without protection — will trigger another wave of infections.

“It’s potentially the mother of all superspreader events,” Dr. Jonathan Reiner, a former White House medical team adviser, told CNN this week.

In the shadow of those daunting statistics and dire warnings, the White House issued a proclamation from the President touting the “service and sacrifice” of “first responders, medical professionals, essential workers, neighbors and countless other patriots.”

He then proceeded to promote behavior that would further endanger them all.

“I encourage all Americans to gather,” Trump said, “in homes and places of worship, to offer a prayer of thanks to God for our many blessings.”

शेयर मार्केट LIVE: सेंसेक्स 68 अंक और निफ्टी 16 अंक नीचे फिसले; दिग्गज शेयरों में बिकवाली से बाजार पर बना दबाव

0
  • Hindi News
  • Business
  • BSE NSE Sensex Today, Stock Market Latest Update: November 26 Share Market, Trade BSE, Nifty, Sensex Live News Updates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • सेंसेक्स 139 अंक ऊपर 43,967 पर और निफ्टी 48 अंक ऊपर 12,906 पर खुला
  • कल सेंसेक्स 694 अंक नीचे 43,828 पर और निफ्टी 196 अंक नीचे 12,858 पर बंद हुआ था

हफ्ते के चौथे कारोबारी दिन गुरुवार को बाजार में बिकवाली है। क्योंकि, बाजार के दिग्गज शेयर जैसे रिलांयस, HDFC बैंक और टीसीएस के शेयर हल्की गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। सेंसेक्स 68.05 अंक नीचे 43,760.05 पर और निफ्टी 16.85 अंक नीचे 12,841.55 पर कारोबार कर रहा है। बाजार की गिरावट को आईटी शेयर लीड कर रहे हैं। आज वायदा बाजार की एक्सपायरी भी है।

स्टॉक्स अपडेट

निफ्टी में आयशर मोटर के शेयर में 2% की तेजी है। बीपीसीएल और मारुति के शेयरों में 1-1 फीसदी की गिरावट है। इसके अलावा ब्रिटानिया और इंडसइंड बैंक के शेयरों में भी 1-1 फीसदी की गिरावट है। वहीं, महिंद्रा एंड महिंद्रा और ग्रासिम के शेयरों में 2-2 फीसदी से ज्यादा की तेजी है। अडाणी पोर्ट और एक्सिस बैंक के शेयरों में भी 1-1 फीसदी की बढ़त है। सुबह सेंसेक्स 139.49 अंक ऊपर 43,967.59 पर और निफ्टी 48.05 अंक ऊपर 12,906.45 पर खुला था।

इन शेयरों पर रहेगी नजर –

1. यूनियन बैंक – सरकारी क्षेत्र की यूनियन बैंक ने चालू वित्त (2020-21) में बिजनेस ग्रोथ के लिए लगभग 6.8 हजार करोड़ रुपए जुटाने का प्रस्ताव पेश किया है। बैंक के मुताबिक शेयरधारकों से मंजूरी के लिए इस साल 30 दिसंबर को एक्स्ट्राआर्डिनरी जनरल मीटिंग (EGM) होगी।

2. सीमंस लिमिटेड – सितंबर तिमाही में टेक कंपनी का नेट प्रॉफिट 4.7% गिरकर 333 करोड़ रुपए रहा। कंपनी का रेवेन्यू भी पिछले साल की समान तिमाही की तुलना में 9.2% फिसलकर 3,422 करोड़ रुपए रहा।

3. फ्यूचर रिटेल – नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) ने फ्यूचर रिटेल को चेतावनी दी कि इसने विवादित परिसंपत्ति बिक्री को रोकने के लिए Amazon.com के प्रयासों के बारे में समय पर बाजार में खुलासा नहीं किया। ऐसा कर कंपनी ने रेगुलेटर को कार्रवाई करने का मौका दिया है।

4. लक्ष्मी विलास बैंक – लक्ष्मी विलास बैंक का शुक्रवार को सिंगापुर के DBS बैंक की भारतीय इकाई में विलय हो जाएगा। बुधवार को केंद्रीय कैबिनेट द्वारा DBS बैंक में लक्ष्मी विलास बैंक (LVB) के मर्जर के प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने के तुरंत बाद RBI ने शुक्रवार से दोनों बैंकों के विलय को प्रभावी कराने की घोषणा कर दी। अब बैंक के खातों से अधिकतम 25 हजार रुपए की रकम निकालने की जो लिमिट थी, उसे भी हटा लिया गया है।

5. L&T- लार्सन एंड टर्बो को पुल निर्माण के लिए 3 हजार करोड़ रुपए का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। यह असम के धुबरी से मेघालय के फुलबरी तक होगा।

एशियाई बाजारों का हाल

आज एशियाई बाजारों में जापान का निक्केई इंडेक्स 144 अंक ऊपर 26,441 पर कारोबार कर रहा है। हॉन्गकॉन्ग का हेंगसेंग इंडेक्स भी 7.25अंकों की बढ़त के साथ 26,677 पर कारोबार कर रहा है। दूसरी ओर, चीन का शंघाई कंपोजिट इंडेक्स 0.13% की गिरावट के साथ 3,358 पर कारोबार कर रहा है।

बुधवार को बाजार में भारी बिकवाली

कल सेंसेक्स 694.92 अंक नीचे 43,828.10 पर और निफ्टी 196.75 अंक नीचे 12,858.40 पर बंद हुआ था। हालांकि, कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 44,825.37 और निफ्टी ने 13,145.85 स्तर को टच किया। यह इंट्राडे के दौरान सर्वोच्च स्तर है। बुधवार को निफ्टी में एक्सिस बैंक, कोटक बैंक और आयशर मोटर के शेयरों में 3-3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। वहीं, सरकारी कंपनी ओएनजीसी के शेयर में 6% की तेजी रही। बाजार में गिरावट के चलते BSE में लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप भी 2.25 लाख करोड़ रुपए घटकर 172.56 लाख करोड़ रुपए हो गया था। मंगलवार को यह 174.81 लाख करोड़ रुपए था।

अमेरिकी के बाजारों में रही गिरावट

बुधवार को अमेरिकी बाजार में डाउ जोंस इंडेक्स 0.58% की गिरावट के साथ 173.77 अंक ऊपर 29,872.50 पर बंद हुआ था। इससे पहले मंगलवार को इंडेक्स पहली बार 30 हजार के स्तर पर बंद हुआ था। एसएंडपी 500 इंडेक्स भी 5.76 पॉइंट नीचे 3,629.65 पर बंद हुआ था। वहीं, नैस्डैक इंडेक्स 0.48% की तेजी के साथ 12,094.40 पर बंद हुआ था।

यूरोप के बाजारों में भी हल्की बिकवाली

यूरोपियन मार्केट में भी हल्की गिरावट दर्ज की गई। ब्रिटेन का FTSE इंडेक्स 0.64% नीचे 6,391.09 पर बंद हुआ था। बुधवार को जर्मनी का DAX इंडेक्स भी हल्की गिरावट के साथ 13,289.80 पर बंद हुआ था। दूसरी ओर, फ्रांस का CAC इंडेक्स 0.23% की बढ़त के साथ 5,571.29 पर बंद हुआ था।

11:27 AM सेंसेक्स 68.05 अंक नीचे 43,760.05 पर और निफ्टी 16.85 अंक नीचे 12,841.55 पर कारोबार कर रहा है।

11:23 AM BSE में वॉकहार्ट लिमिटेड का शेयर 10% ऊपर कारोबार कर रहा है।

10:23 AM BSE सेंसेक्स 41.31 अंक नीचे 43,786.79 पर और निफ्टी 14.05 अंक नीचे 12,844.35 पर कारोबार कर रहा है।

10:22 AM BSE पावर इंडेक्स में शामिल 14 में से आठ पावर कंपनियों के शेयरों में तेजी और छह के शेयरों में बिकवाली है। इंडेक्स में सीमंस का शेयर 8% ऊपर कारोबार कर कर रहा है।

10:17 AM निफ्टी इंडेक्स के टॉप लूजर स्टॉक्स; इंडसइंड बैंक, आयशर मोटर, मारुति और ब्रिटानिया के शेयरों में बिकवाली है।

सोर्स -NSE

सोर्स -NSE

09:58 AM सेंसेक्स 104.71 अंक नीचे 43,723.39 पर और निफ्टी 33.75 अंक नीचे 12,824.65 पर कारोबार कर रहा है।

09:39 AM सेंसेक्स 59.61 अंक ऊपर 43,887.71 पर और निफ्टी 17.10 अंक ऊपर 12,875.50 पर कारोबार कर रहा है।

09:38 AM BSE में सीमंस का शेयर 7% ऊपर कारोबार कर रहा है।

09:36 AM BSE सेंसेक्स में शामिल 30 में से 20 कंपनियों के शेयरों में तेजी और 10 के शेयरों में गिरावट है। इंडेक्स में बजाज ऑटो का शेयर 2% ऊपर कारोबार कर रहा है।

सोर्स -BSE

सोर्स -BSE

09:15 AM BSE सेंसेक्स 139.49 अंक ऊपर 43,967.59 पर और निफ्टी 48.05 अंक ऊपर 12,906.45 पर खुला।

दुनियाभर के बाजार का हाल